इन 4 रणनीतियों के साथ हाँ माता-पिता बनें

17

हां पेरेंटिंग का मतलब हमेशा ‘हां’ कहना नहीं होता है। आपके बच्चे की हर मांग पूरी नहीं हो सकती। लेकिन अभी कहने के बजाय बेहतर विकल्प चुनें।

उदाहरण के लिए, यह कहने के बजाय कि भागो मत, कहो कि तुम चल सकते हो। इसी तरह, चिल्लाने और चिल्लाने को ना कहने के बजाय, उन्हें बताएं कि क्या वे चीजों को शांत रखकर आपकी मदद कर सकते हैं। अपने बच्चे को किसी जानवर को मारना बंद करने के लिए कहने के बजाय, उसे कोमल होने के लिए कहें।

ये सकारात्मक वाक्यांश हैं जो न केवल हाँ पेरेंटिंग को प्रोत्साहित करते हैं, बल्कि आपके बच्चे को यह भी बताते हैं कि इसके बजाय क्या करना है।

Previous articleचिली में बड़े बदलाव के साथ प्रस्तावित संविधान पर वोट
Next articleहमें देश को बांटना बंद करना होगा; सरकार, उद्योग को और करना चाहिए : नादिर गोदरेज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here