व्हिसलब्लोअर का आरोप- twitter ने स्पैम और बॉट्स को लेकर US रेगुलेटर्स को किया गुमराह

22

वॉशिंगटन. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर (Twitter) एक बार फिर विवादों में घिर गया है. ट्विटर के एक पूर्व सुरक्षा प्रमुख ने व्हिसलब्लोअर शिकायत (Whistleblower Complaint) दर्ज कराई है. जिसमें आरोप लगाया गया है कि Twitter Inc कंपनी ने अपने साइबर सुरक्षा बचाव और फेक अकाउंट्स के साथ अपनी समस्याओं के बारे में नियामकों को गुमराह किया है.
‘रॉयटर्स’ और ‘सीएनएन’ की रिपोर्ट के अनुसार, ट्विटर के सुरक्षा प्रमुख पीटर ज़टको (Peiter Zatko) को इस साल की शुरुआत में निकाल दिया गया था. उन्होंने पिछले महीने अमेरिकी प्रतिभूति और विनिमय आयोग, संघीय व्यापार आयोग और न्याय विभाग में शिकायत दर्ज कराई थी. शिकायत में कहा गया कि ट्विटर ने एक मजबूत सुरक्षा योजना होने का झूठा दावा करके FTC समझौते की शर्तों का उल्लंघन किया.’ ज़टको ने कंपनी पर “स्पैम” या फेक अकाउंट्स से निपटने में धोखे का आरोप लगाया है.

‘सीएनएन’ ने अपनी रिपोर्ट में ये शिकायत प्रकाशित की है. पीटर ज़टको ने ट्विटर प्लेटफॉर्म पर स्वचालित बॉट्स की संख्या को कम करके आंकने का भी आरोप लगाया है. रिपोर्ट के अनुसार, ट्विटर स्पैम और बॉट्स से लड़ने के मुकाबले अपने यूजर्स बेस को बढ़ाने को प्राथमिकता देता है. इसके लिए फेक अकाउंट्स और स्पैम को लेकर लापरवाही बरती जाती है. रिपोर्ट के अनुसार, जटको ने ट्विटर के चीफ पराग अग्रवाल पर “झूठ बोलने” का आरोप लगाया था. अग्रवाल ने अपने ट्वीट में कहा था, “ट्विटर को जितना संभव हो उतना स्पैम का पता लगाने और हटाने के लिए दृढ़ता से प्रोत्साहित किया जाता है. सुरक्षा और गोपनीयता लंबे समय से ट्विटर की व्यापक प्राथमिकता रही है और आगे भी रहेगी.”

एलन मस्क भी उठाते आए हैं ये मामला
बता दें कि एलन मस्क लंबे समय से ट्विटर में बड़ी हिस्सेदारी 44 अरब डॉलर में खरीदने की कोशिश में हैं. हालांकि, फेक अकाउंट्स का मुद्दा बीच में बाधा बन रहा है. ये मुद्दा ट्विटर और टेस्ला प्रमुख मस्क के बीच कानूनी लड़ाई के केंद्र में है. अरबपति ने बार-बार कंपनी पर अपने प्लेटफॉर्म पर फर्जी खातों और स्पैम की संख्या को कम करने का दबाव बनाया है. माना जा रहा है कि जाटको के इस दावे से एलन मस्क को काफी फायदा पहुंच सकता है, क्योंकि मस्क ने ट्विटर पर बॉट्स को लेकर गलत जानकारी देने का आरोप लगाया है.

हालांकि, रिपोर्ट में कहा गया है कि ज़टको उस दौरान एलन मस्क के संपर्क में नहीं थे. ट्विटर में अरबपति की भागीदारी का कोई संकेत होने से पहले उन्होंने व्हिसलब्लोअर प्रक्रिया शुरू कर दी थी.

ज़टको ने अप्रचलित सर्वरों, कंप्यूटर हमलों के लिए असुरक्षित सॉफ्टवेयर और हैकिंग प्रयासों की संख्या को छिपाने की मांग करने वाले अधिकारियों (अमेरिकी अधिकारियों और कंपनी का निदेशक मंडल) को चेतावनी दी है. रिपोर्ट के मुताबिक, हैकर से कार्यकारी बने जाटको, जिन्हें मुजे निकनेम से भी जाना जाता है, ने दावा किया कि ट्विटर स्पैम और बॉट्स से लड़ने के बजाय अपने यूजर्स बेस को बढ़ाने को प्राथमिकता देता है.

ज़टको से मिलना चाहती है अमेरिकी सीनेट खुफिया समिति
इस मामले में एलन मस्क के वकील एलेक्स स्पिरो ने मंगलवार को एएफपी को बताया, “हमने पहले ही पीटर ज़टको के लिए एक सम्मन जारी कर दिया है. हमने पाया कि हम जो खोज रहे हैं, उसके प्रकाश में उनके और अन्य प्रमुख कर्मचारियों के बाहर निकलने के लिए उत्सुक हैं.” वहीं, वॉशिंगटन पोस्ट और सीएनएन दोनों ने बताया कि अमेरिकी सीनेट खुफिया समिति अपने आरोपों पर चर्चा करने के लिए ज़टको से मिलना चाहती है.

क्या कहती है कंपनी?
इस बीच ट्विटर कंपनी के प्रवक्ता ने मंगलवार को कहा कि जाटको को इस साल जनवरी में अप्रभावी नेतृत्व और कमजोर प्रदर्शन के चलते नौकरी से हटा दिया गया था. प्रवक्ता ने बयान में कहा, हमने अब तक जो देखा है वह यह है कि ट्विटर और हमारी प्राइवेसी और डाटा सुरक्षा के बारे में एक झूठा नैरेटिव है जो विसंगतियों और अशुद्धियों से भरा हुआ है. इस नैरेटिव में महत्वपूर्ण संदर्भों का अभाव है.

Tags: Elon Musk, Social media, Twitter

Previous articleभारत में अगले महीने लॉन्च हो सकता Poco M5 स्मार्टफोन, कम कीमत में मिलेंगे शानदार फीचर्स
Next articleसिर्फ WhatsApp के लिए बंद कर सकते हैं मोबाइल इंटरनेट, बचेगा काफी सारा डेटा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here