रोमांटिक कॉलेज लव स्टोरी | Romantic College Love Story In Hindi - दोस्तों आज की यह लव स्टोरी आप सभी के लिए बहुत ही रोमांटिक है और उम्मीद करता हूं कि इस लवस्टोरी को पढ़ने के बाद आप मुझे कमेंट करके जरूर करेंगे। इस लव स्टोरी की शुरुआत कॉलेज में पढ़ाई के दौरान होती है। दिव्या नाम की लड़की शहर के कॉलेज में दाखिला लेती है और उसी समय कॉलेज में अपूर्व नाम का एक लड़का भी पढ़ाई करता था। दिव्या को पहली बार देखने के बाद से ही वह उसका दीवाना हो गया था। 

रोमांटिक कॉलेज लव स्टोरी | Romantic College Love Story In Hindi - 

कहानी की शुरुआत उस दौरान होती है जब दिव्या गांव छोड़कर शहर के कॉलेज में आगे की पढ़ाई करने के लिए जाती है। दिव्या बहुत गरीब परिवार से थी लेकिन पढ़ाई में बहुत अच्छी थी। वह अच्छी पढ़ाई करके अपने माता-पिता का नाम रोशन करना चाहती थी। दिव्या स्कूल के समय भी अच्छी पढ़ाई करती थी जिसकी वजह से उसके हमेशा अच्छे नंबर आते थे। इसलिए उसके माता-पिता भी आगे की पढ़ाई के लिए एक एक रुपैया इकट्ठा कर रहे थे ताकि दिव्या शहर में जाकर अच्छी पढ़ाई कर सकें। Romantic College Love Story In Hindi 

 दिव्या को कॉलेज में एडमिशन मिलने के बाद वह लड़कियों के हॉस्टल में ही रहने लगी। वह समय पर कॉलेज जाती थी और हॉस्टल में देर रात तक पढ़ाई करती रहती थी। कुछ दिनों बाद दिव्या ने नोटिस किया कि एक लड़का उसका पीछा करता है। यह लड़का कोई और नहीं बल्कि अपूर्व था जो दिव्या का क्लास साथी भी था। एक दिन वह लड़की कॉलेज के गेट पर खड़ी हुई थी तभी अपूर्व उसे बहुत देर से देख रहा था। दिव्या इतना समझ गई थी कि वह लड़का उसका पीछा करता है। 

अपूर्व एक अच्छे परिवार से था और पढ़ाई में भी होशियार था। वह देखने में बहुत हट्ठा कट्ठा और हैंडसम था। कॉलेज की कई सारी लड़कियां अपूर्व से प्यार करने के लिए तैयार थी लेकिन वह सिर्फ दिव्या को ही पसंद करता था। पढ़ाई में होशियार होने के साथ-साथ अपूर्व अमीर परिवार से भी संबंध रखता था लेकिन उसे अपने पैसों पर बिल्कुल भी घमंड नहीं था। वह अपनी खुद की बाइक से ही कॉलेज जाता था। कॉलेज में अपूर्व के दोस्त भी बहुत कम थे। Romantic College Love Story In Hindi 

वक्त गुजारने के साथ-साथ अपूर्व दिव्या को बहुत पसंद करने लग गया था लेकिन कहने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था। एक दिन उसने दिव्या के बारे में अपने दोस्तों को बताया और कहा - यार, मैं दिव्या को बहुत पसंद करता हूं लेकिन वह मेरी तरफ बिल्कुल भी नहीं देखती है। तभी उसके दोस्त कहते हैं - यार तू पढ़ाई में भी बहुत होशियार है और अमीर भी है, अगर तू कोशिश करेगा तो वह आसानी से तुझसे प्यार करने लग जाएगी। तभी अपूर्व कहता है - कल मैं पूरी क्लास के सामने दिव्या को प्रपोज करूंगा। इतना कहने के बाद वह क्लास के अंदर चला जाता है।

क्लास में अपूर्व सिर्फ दिव्या को ही देख रहा था लेकिन अंदर से बहुत घबरा रहा था। तभी उसके दोस्त कहते हैं - आज पता चल गया कि तुम लड़की से डरते हो। अगर तुम्हारी जगह हम होते तो बहुत दिन पहले ही प्रपोज कर देते। अपूर्व कहता है - ठीक है जैसे ही दिव्या क्लास के अंदर आएगी, मैं उसको प्रपोज कर दूंगा लेकिन अगर उसने मना कर दिया तो। अपूर्व के दोस्त कहते हैं - हम सब को अच्छी तरह से पता है कि वह लड़की भी तुमसे प्यार करती है इसलिए मैं तुम्हें बिल्कुल भी मना नहीं करेगी। Romantic College Love Story In Hindi 

थोड़ी देर बाद दिव्या क्लास के अंदर आ जाती है तभी अपूर्व पूरी क्लास के सामने उसका हाथ पकड़ कर प्रपोज कर देता है। अपूर्व दिव्या से कहता है - कई दिनों से तुम्हें प्रपोज करने की सोच रहा था लेकिन कहने से डरता था। आज पहली बार हिम्मत जुटाकर तुम्हें प्रपोज किया है। इतना कहने के बाद दिव्या अपूर्व के गाल पर एक जोरदार थप्पड़ मारते हैं और गुस्से में लाल पीली हो जाती हैं। और अपूर्व से कहने लगती है - क्या तुम्हारे माता-पिता इसीलिए तुम्हें कॉलेज भेजते हैं। पढ़ाई पर ध्यान दीजिए इस प्यार के चक्कर में मुझे बिल्कुल भी नहीं पड़ना है।

इतना कहने के बाद दिव्या क्लास से बाहर चली जाती हैं। दिव्या के चले जाने के बाद अपूर्व वापस अपनी कुर्सी पर जाकर बैठ जाता है। पूरी क्लास अपूर्व पर हंसने लगती है और उसके दोस्त भी उसका मजाक बनाने लगते हैं। उसके बाद अपूर्व अपने दोस्तों के पास चला जाता है। जहां पर दोस्तों के द्वारा उसका मजाक उड़ाया जाता है। उसके दोस्त कहते हैं - हमें बिल्कुल भी पता नहीं था कि वह लड़की तुम्हे थप्पड़ मारेगी और खरी-खोटी भी सुनाएगी। अपूर्व ने कहा - छोड़ो यार, वह लड़की मुझसे कभी भी नहीं पटेगी और ना ही मैं भविष्य में किसी लड़की से प्यार का इजहार करूंगा। Romantic College Love Story In Hindi 

इतना सब हो जाने के बाद अपूर्व कॉलेज तो जाता था लेकिन किसी से कुछ भी बात नहीं करता था। वह क्लास के अंदर चुपचाप बैठा रहता था। दिव्या से डांट खाने के बाद अपूर्व पूरी तरह से बदल गया था। कॉलेज की कई लड़कियों ने भी अपूर्व से मोहब्बत करने की कोशिश की लेकिन वह किसी भी लड़की को प्यार का इजहार नहीं करता था। एक दिन की बात है जब दिव्या कॉलेज खत्म होने के बाद अकेले गर्ल हॉस्टल जा रही थी। तभी रास्ते में उसे कुछ लड़के रोक लेते हैं और बदतमीजी करने लगते हैं। यह सब नजारा अपूर्व अपनी आंखों से देख रहा था। 

बात आगे तक बढ़ जाने के बाद वह दिव्या के पास जाकर खड़ा हो जाता है और लड़कों के साथ झगड़ा करना शुरू कर देता है। थोड़ी देर में कई लोग उस जगह पर इकट्ठा हो जाते हैं तब बदतमीजी करने वाले लड़के वहां से भाग निकलते हैं। उसके बाद अपूर्व दिव्या से कहता है - चलो बाइक पर बैठो मैं तुम्हें हॉस्टल छोड़ देता हूं। अपूर्व की बातें सुनकर दिव्या कुछ भी जवाब नहीं देती है और चुपचाप बाइक पर बैठ जाती है। हॉस्टल जाते समय अपूर्व दिव्या से कहने लगता है - सब लोग मेरे जैसे नहीं होते हैं इसलिए पैदल कॉलेज मत आया करो। अपूर्व की इस बात को सुनकर दिव्या हां में अपना जवाब देती है। Romantic College Love Story In Hindi 

कुछ देर बाद अपूर्व दिव्या को उसके घर छोड़ कर आ जाता है। समय गुजरने के साथ-साथ दोनों के बीच अच्छी दोस्ती हो गई। थोड़े दिन बाद अपूर्व का जन्मदिन था इसलिए उसने कॉलेज में अपने अच्छे दोस्तों को जन्मदिन की पार्टी का निमंत्रण दिया था। जन्मदिन की पार्टी का प्रोग्राम घर में ही रखा गया था इसलिए सभी दोस्तों को घर पर ही बुलाया गया था। उस दिन अपूर्व ने दिव्या को भी जन्मदिन की पार्टी में शामिल होने के लिए निमंत्रण दिया था। अपूर्व के जन्मदिन पर उसके पिताजी ने उसे विटारा ब्रेजा कार गिफ्ट में दी थी। अपूर्व अपने पिताजी के द्वारा दिए गए गिफ्ट को पाकर बहुत खुश था। 

उस पार्टी में उसके सभी दोस्त शामिल हुए थे, जिसमें दिव्या भी शामिल थी। जब दिव्या ने अपूर्व के परिवार और घर को देखा तो दंग रह गई क्योंकि अपूर्व के पिताजी बिजनेसमैन थे। इसलिए उनके पास कई सारी गाड़ियां और आलीशान बंगला था। अपूर्व के जन्मदिन वाले दिन सभी दोस्तों ने खूब रोमांस किया था। अगले दिन दिव्या जैसे ही कॉलेज पहुंची तो उसने अपनी सहेलियों को अपूर्व के घर परिवार के बारे में सब कुछ बता दिया था। कुछ लड़कियां पैसों की चाह रखने के लिए अपूर्व से शादी करने के लिए तैयार हो गई थी लेकिन अपूर्व सिर्फ आज भी दिव्या से ही प्यार करता था। Romantic College Love Story In Hindi 

जब भी कोई लड़की अपूर्व को प्रपोज करती तो वह बिना कोई कारण बताए बिल्कुल मना कर देता था। अपूर्व और दिव्या दोनों अच्छे दोस्त होने के साथ-साथ क्लास साथी भी थे इसलिए दोनों अपने कॉलेज के काम को एक साथ करते थे। अब अपूर्व अपने पिताजी के द्वारा जन्मदिन पर गिफ्ट की गई कार से ही कॉलेज जाता था। समय गुजरने के साथ साथ दिव्या भी अपूर्व के प्यार को समझने लग गई। उसे भी एहसास हो गया था कि अपूर्व उससे सच्चा प्यार करता है। दिव्या अपूर्व को पसंद करने लग गई थी लेकिन प्रपोज करने से डर रही थी। क्योंकि कुछ दिनों पहले अपूर्व ने जब दिव्या को प्रपोज किया था तो दिव्या ने उसे थप्पड़ जड़ दिया और बुरा भला भी कहा था। 

दिव्या अपूर्व को प्रपोज करने के बारे में सोचने लगती लेकिन हिम्मत नहीं जुटा पाने के कारण रुक जाती थी। एक दिन दिव्या ने अपनी सहेलियों को अपूर्व से प्यार करने के बारे में बता दिया। तब दिव्या की एक सहेली ने जवाब दिया - कुछ दिनों पहले अपूर्व ने तुम्हें प्रपोज किया था लेकिन तुमने उसके साथ गलत व्यवहार किया था। अगर आज तुम अपूर्व को प्रपोज करोगी तो वह तुम्हारे साथ वही हरकत करेगा जो तुमने उसके साथ की थी। इस तरह दिव्या की सहेलियां उसे अपूर्व से प्यार का इजहार न करने के बारे में सलाह दे रहे थे। Romantic College Love Story In Hindi 

तभी अपूर्व वहां पहुंच जाता है और अपनी जेब से अंगूठी निकालकर दिव्या के हाथ में थमा देता है और कहता है - मुझे पता है कि तुम मुझे पहले भी मना कर चुकी हो लेकिन मैं तुमसे सच्चा प्रेम करता हूं। अपूर्व की इस बात को सुनकर दिव्या चुपचाप खड़ी हुई थी, तभी दिव्या की सहेली कहती है - अपूर्व दिव्या भी तुमसे बहुत प्यार करती है लेकिन कहने से बहुत डर रही थी। लेकिन बहुत अच्छा हुआ आज तुमने दिव्या को प्रपोज कर दिया क्योंकि दिव्या भी तुम्हें आज प्रपोज करने की सोच रही थी। उसकी सहेली के द्वारा इतना कहने के बाद दिव्या वहां से क्लास के अंदर चली जाती है।

अपूर्व भी दौड़ते हुए दिव्या के पीछे-पीछे चला जाता है और उसे अपनी गोद में उठा लेता है। कुछ देर तक दोनों के बीच प्यार भरी बातें होती है। एक दूसरे से प्यार करने के बाद दोनों अपनी पर्सनल जिंदगी के बारे में एक दूसरे को बताने लगते हैं। जब अपूर्व को पता चला कि दिव्या गरीब परिवार से संबंध रखती है तो वह उससे शादी करने की सोचता है। अपूर्व अपने घर वालों को दिव्या के प्यार के बारे में सब कुछ बता देता है और एक दिन दिव्या को अपनी मां से मिलाता है। अपूर्व की मां को भी दिव्या बहुत पसंद आई थी इसलिए उसने दोनों की शादी करवाने का फैसला लिया। Romantic College Love Story In Hindi 

कुछ दिनों बाद अपूर्व की मां अपने परिवार के साथ दिव्या के घर पहुंच जाती है और अपने बेटे के लिए दिव्या का हाथ मांग लेती है। दिव्या के पिताजी गरीब थे इसलिए इतने बड़े अमीर परिवार में दिव्या की शादी करने के लिए तैयार नहीं होते हैं। अपूर्व की मां ने दिव्या के पिताजी को समझाया की लड़का और लड़की दोनों एक दूसरे से प्यार करते हैं और शादी करना चाहते हैं। इसलिए हम यही चाहते हैं कि दोनों की शादी हो जाए। तभी दिव्या के पिताजी ने कहा - साहब, आप लोग अमीर परिवार से हैं और मैं गरीब किसान हूं। आपका और मेरा मेल नहीं है और मेरे पास इतने पैसे भी नहीं है कि मैं अपनी बेटी की शादी धूमधाम से करूं।

तभी अपूर्व के पिताजी ने कहा - हमारे लिए गरीब और अमीर कोई मायने नहीं रखता है। बच्चों की खुशी हम सबके लिए बहुत महत्वपूर्ण है। मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि भविष्य में कभी भी आपकी बेटी को दुख नहीं पहुंचेगा। आपकी बेटी मेरे घर में भी एक बेटी बनकर ही रहेगी, यह मैं आपसे वादा करता हूं। इस तरह से दोनों परिवार के सदस्यों के बीच बहुत देर तक बातें होती रही लेकिन अंत में दिव्या के पिताजी ने शादी के लिए हां कर दी। कुछ दिनों बाद दोनों की शादी कर दी जाती है और शादी का सारा खर्चा अपूर्व के पिताजी ने उठाया। Romantic College Love Story In Hindi 

शादी हो जाने के बाद भी दिव्या ने पढ़ाई करना जारी रखा था। एक दिन अपूर्व अपने पिताजी के साथ कमरे में बैठा हुआ था तभी वह अपने पिताजी से कहता है - पापा, मैं चाहता हूं कि दिव्या के पिताजी को कुछ पैसे दे दिए जाएं ताकि वो एक अच्छा मकान बना सके और अपने बेटे की पढ़ाई के लिए किसी से कर्ज ना ले। अपूर्व के इस बात को सुनकर उसके पिताजी ने कहा - बेटी मैं भी यही चाह रहा था लेकिन दिव्या के पिताजी हमारी इस बात को बिल्कुल भी नहीं मानेंगे। उसके बाद अपूर्व ने कहा - पापा क्यों ना हम सारे पैसे दिव्या के हाथों भेजें। 

उसके बाद दिव्या और अपूर्व की मां भी कमरे में आ जाती हैं। तब दिव्या को समझाया जाता है कि जब तुम अपने पापा के पास पैसे लेकर जाओ तो उनको बता देना कि इतने सारे पैसे तुमने बिजनेस में कमाए हैं। अगर तुम्हारे पिताजी तुमसे पूछे तो बताना कि मेरी पहली कमाई पर सिर्फ आपका ही हक है और यह मैं बिल्कुल भी नहीं भूल सकते हूं। अगले दिन दिव्या पैसों से भरा बैग गाड़ी में रखती है और अपने पिताजी के घर चली जाती है। घर पहुंचने के बाद दिव्या पैसों से भरा बैग अपने पिताजी के हाथों में थमा देती है। Romantic College Love Story In Hindi 

इतने सारे पैसे देखकर दिव्या के पिताजी पूछने लगते हैं तो दिव्या वही कहते हैं जो अपूर्व और उसके पिताजी ने दिव्या को समझाया था। दिव्या की बातों को सुनकर उसके पिताजी की आंखों में आंसू आ गए और अपनी बेटी को गले से लगा लिया। दिव्या के पिताजी कहने लगते हैं - मैंने कभी जीवन में नहीं सोचा था कि मेरी बेटी एक बिजनेसमैन की बहू बनेगी। मैं एक लड़की का पिता होने के नाते ईश्वर से यही प्रार्थना करता हूं कि सभी लड़कियों को तुम्हारे जैसे सास-ससुर मिले। अपने परिवार के साथ एक रात गुजारने के बाद दिव्या अगले दिन अपनी ससुराल पहुंच जाती है। 

उसके बाद दिव्या के पिताजी ने भी एक अच्छा मकान बनाया और अपने बेटे को पढ़ाई करने के लिए शहर के एक अच्छे कॉलेज में दाखिला दिला दिया। दिव्या के द्वारा दिए गए पैसों के कारण आज दिव्या के पिताजी का पूरा परिवार बहुत खुश है। समय गुजरने के साथ-साथ अपूर्व ने भी दिव्या को बिजनेस के बारे में सब कुछ बता दिया। बिजनेस के बारे में दिव्या और अपूर्व को अच्छी समझ हो जाने के बाद अपूर्व के पिताजी ने पूरा बिजनेस दोनों के हाथों में थमा दिया। आज अपूर्व तथा दिव्या अपने वैवाहिक जीवन में बहुत खुश हैं और कंधे से कंधा मिलाकर अपने बिजनेस को संभाल रहे हैं। Romantic College Love Story In Hindi 

दोस्तों इस कहानी समय यही सीख मिलती है कि जीवन में वही इंसान आगे बढ़ता है जो गरीब लोगों की सहायता करता है और गरीबी और अमीरी में कोई भी फर्क नहीं समझता है। कभी किसी भी इंसान को पैसो का घमंड नहीं करना चाहिए क्योंकि समय का चक्कर हमेशा चलता रहता है। यह बात बिल्कुल सत्य है की सच्ची मोहब्बत जीवन में सिर्फ पहली बार एक ही इंसान से होती है। 

Read More -  Real Life Romantic Love Story In Hindi | मेरा सच्चा प्यार

 सैड इमोशनल लव स्टोरी | Very Emotional Sad Love Story in Hindi

Previous Post Next Post